अग्निवीरों का हुआ जबरदस्त अपमान, इस नेता ने दिया ऐसा घटिया बयान

अग्निवीरों का हुआ जबरदस्त अपमान, इस नेता ने दिया ऐसा घटिया बयान

नई दिल्ली: यह बात तो देश का हर एक नागरिक जानता है कि पिछले चार-पांच दिन से देश में भयंकर बवाल चल रहा है कहीं पर हिंसक प्रदर्शन किए जा रहे हैं तो कहीं पर रोड जाम किए जा रहे हैं तो कहीं पर धरना प्रदर्शन, यह प्रदर्शन देश में अग्निवीर स्कीम के खिलाफ किया जा रहे हैं । जो हमारे देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एलान किया था। इसमें सेना के जवानों की भर्ती है 4 साल के लिए की जानी है जोकि एक कांटेक्ट बेस पर मानी जा रही है.

इसमें सैलरी भी सरकारी मानकों के अनुसार नहीं है। सैलरी भी  कम दी जाएगी। इसमें पहले साल में आर्मी के जवान को ₹21000 दिए जाने हैं आखिर में यानी 4थे साल में उसकी सैलरी 40000 तक पहुंच पाएगी ऐसे में अब एक और बीजेपी के नेता ‘ कैलाश विजयवर्गीय ‘ का बयान सामने आया है। कैलाश विजयवर्गीय बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव हैं जिन्होंने अग्निवीरों को लेकर के अजीब तरह का बयान दिया है।


प्रदर्शन की खास वजह

इस योजना के खिलाफ प्रदर्शन की 2 खास वजह रही हैं। जिस वजह से पूरे देश में हंगामा मचा हुआ है।

1- नौकरी का टेंपरेरी होना

इस योजना में नौकरी का टेंपरेरी होना प्रदर्शन की खास बड़ी वजह रही है। इसमें सेना के जवान की भर्ती  मात्र 4 साल के लिए की जाएगी। उसके बाद उनको वापस घर भेज दिया जाएगा। इनमें से सिर्फ 25%जवानों को आगे उ नौकरी का मौका जाएगा।

2 – आयु सीमा

आयु सीमा भी इस योजना में प्रदर्शन का बड़ा बनी क्योंकि पिछले 2 सालों में कोविड की वजह से सेना में भर्ती नहीं हो पाई । जिसके चलते जो लड़के 3 – 4 साल से तैयारी कर रहे थे वह इस आयु सीमा को पार कर चुके हैं और उनका सेना में जाने का रास्ता बिल्कुल बंद हो चुका है। इसके लिए सरकार ने एक अहम कदम भी उठाया इसमें पहली भर्ती के लिए आयु सीमा 17 से 23 वर्ष कर दी गई है। इसके चलते ही कई राज्यों में हिंसा भड़की ट्रेनें जलाई गई, दर्जनों बसे जलाई गई यहां तक कि बीजेपी के कार्यकर्ताओं के ऑफिस और घरों पर भी युवाओं की तरफ से हमले किए गए हैं।

ये भी पढ़ें  मस्जिदों के लाउडस्पीकर पर कोर्ट का फैसला, मुस्लिम समाज खुश!

इसी के बीच बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव के कैलाश विजयवर्गीय की तरफ से एक बयान आया है 4 साल के बाद जब सेना इन जवानों को निकाल देगी तब इनका क्या होगा? जब इन लोगों की नौकरियां खत्म हो जाएंगे तो यह लोग क्या करेंगे? तब इसमें कैलाश विजयवर्गीय आगे कहते हैं कि अगर मुझे अपने कार्यालय में किसी गार्ड की जरूरत होगी यानी कि मैं किसी गार्ड को नौकरी पर रख लूंगा तो मैं किसी अग्निवीर को सबसे पहले प्राथमिकता दूंगा। इसलिए अब देश के अग्नि वीरों को किसी तरह की कोई टेंशन लेने की जरूरत नहीं है।

 

4 साल के बाद जब सेना  इन जवानों को वापस घर भेज देगी तब सभी अग्निवीर सैनिक जोकि पूर्व सैनिक होने का सौभाग्य प्राप्त कर चुके होंगे। वह बीजेपी के इन नेताओं से संपर्क करें और उनके कार्यालय में गार्ड की नौकरी पाएं। बीजेपी के इस नेता का यह बयान सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोर रहा है कि उसकी सेना के जवानों के प्रति किस तरह की सोच है।

Related News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *