5 साल से भारत ऑस्ट्रेलिया को घर में टी-20 मैच नहीं हरा सका, पर सीरीज के पहले मैच में…

5 साल से भारत ऑस्ट्रेलिया को घर में टी-20 मैच नहीं हरा सका, पर सीरीज के पहले मैच में…

Ind vs Aus T20 series: 5 साल से भारत ऑस्ट्रेलिया को घर में टी-20 मैच नहीं हरा सका था। उसपर से सीरीज के पहले मैच में 209 रन का टारगेट देने के बावजूद शिकस्त नसीब हुई थी। नागपुर में 45,000 दर्शक किसी भी सूरत में हिसाब चुकता करना चाहते थे। वैसे थोड़ा-बहुत भरोसा भी था क्योंकि इस मैदान पर पिछले 6 सालों से हिंदुस्तान ने कोई मैच नहीं गंवाया था।

बारिश भी ठीक समय पर रुक गई लेकिन हम लोग गीला मैदान सुखा नहीं सके। कहा गया कि यह टेक्नोलॉजी सिर्फ बेंगलुरु के चिन्नास्वामी स्टेडियम में है। खैर जो टॉस शाम 6:30 बजे होना था, वह रात 9:15 बजे हुआ। भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। मुकाबला 8-8 ओवरों का कर दिया गया।

बुमराह के रहते हुए बॉलिंग की शुरुआत हार्दिक से करवा कर रोहित ने सबको चौंका दिया। दूसरी गेंद पर कप्तान फिंच ने दिलस्कूप खेला। मतलब झुक गए और गेंद को कीपर के सर के ऊपर से निकाल दिया। इस चौके के बाद पांचवी गेंद लगभग यॉर्कर लेंथ की थी। पर फिंच ने रूम बनाया और फ्रंट लेग क्लियर करते हुए बल्ले का फेस खोल दिया। पॉइंट की दिशा में बेहतरीन चौका।

लगा नहीं कि यह उस बल्लेबाज का शॉट है, जिसने खराब फॉर्म के कारण हाल ही में वनडे से संन्यास ले लिया। दूसरा ओवर अक्षर पटेल लेकर आए और पहली ही गेंद को मिडऑफ के ऊपर से कैमरन ग्रीन ने खेल दिया। हालांकि गेंद बल्ले पर ठीक तरीके से आई नहीं थी और विराट कोहली चीते की रफ्तार से बॉल तक पहुंच भी गए। पर उनके दोनों हाथों में लग कर गेंद चौके के लिए सीमा रेखा के बाहर चली गई।

अगली गेंद से पहले कप्तान रोहित ने विराट को तीस गज दायरे के अंदर बुला लिया और लॉन्गऑन के फील्डर को बाउंड्री पर भेज दिया। रोहित ने मिसफील्ड के बाद यह फील्ड चेंज किया। दूसरी गेंद डॉट थी और तीसरी गेंद मिस टाइम करते हुए ग्रीन ने कोहली के पास मिड ऑन में खेल दी। पहले मैच में ताबड़तोड़ 61 रन बनाकर कंगारुओं को जीत दिलाने वाले ग्रीन अबकी बार सुरक्षित नॉन स्ट्राइकर एंड पर नहीं पहुंच सके।

वह जिस रफ्तार से दौड़े, उसकी दोगुनी स्पीड से कोहली ने अक्षर के पास गेंद थ्रो कर दी। 4 बॉल पर 5 रन बनाकर ग्रीन पवेलियन की राह नाप चुके थे। विराट ने पहली गेंद पर मुश्किल मौका गंवाने का बदला रॉकेट की रफ्तार से गेंद थ्रो कर चुकता कर दिया।

पर मैच का सबसे बड़ा मोमेंट दूसरे ओवर की अंतिम गेंद पर आया। फर्स्ट डाउन बैटिंग करने आए मैक्सवेल को अक्षर ने पहली ही गेंद पर बोल्ड कर दिया। राउंड द विकेट आकर एंगल के साथ अक्षर ने अंदर की तरफ बॉल लाई और मैक्सी बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में बड़ी गलती कर बैठे। पूरा स्टेडियम दर्शकों के शोर से भर गया। मैक्सवेल सर झुकाकर हौले-हौले कदमों से पवेलियन की तरफ जा रहे थे। साथ लिए जा रहे थे 8 ओवर में 100 का आंकड़ा पार करने की ऑस्ट्रेलियाई उम्मीद…!

तीसरे ओवर की तीसरी गेंद चहल ने जूसी लेग ब्रेक डाली, जो सीधा फिंच के स्लॉट में गिरी। इस टॉस्ड अप डिलीवरी को उन्होंने सीधे मैदान के बाहर मारा। विशालकाय छक्का…! आखिरकार 5वें ओवर में बूम- बूम बुमराह आए और अंतिम गेंद पर 31 रन बना चुके फिंच का लेग स्टंप उखाड़ दिया। गेंद पूरी तरीके से यॉर्कर नहीं थी लेकिन हल्की लोअर फुलटॉस की एक्स्ट्रा पेस पर फिंच बीट हो गए। चोट के बाद बुमराह की वापसी सफल रही।

लगा था कि मामला 65-70 तक निपट जाएगा लेकिन तभी हर्षल पटेल के भीतर शाहीन शाह अफरीदी की आत्मा घुस गई। बाकी का काम मैथ्यू वेड ने बहुत तरीके से किया। सबसे पहले स्लोअर शॉर्ट बॉल पर मिडविकेट के ऊपर से छक्का, फिर फुलटॉस पर पॉइंट के ऊपर से सिक्सर और अंत में कंधों के आसपास की शॉर्ट बॉल पर स्क्वायर लेग के ऊपर से लंबा छक्का। ऑस्ट्रेलियाई पारी के अंतिम ओवर में हर्षल ने खुले दिल से रन लुटाया और भारत के सामने 91 का टारगेट आया। अगर वह ऐसी ही गेंदबाजी करते रहे, तो टी-20 वर्ल्ड कप में भुवी के साथ मिलकर भारत को जीता हुआ मैच भी हरा सकते हैं।

ये भी पढ़ें  के एल राहुल की ये रोचक तथ्य आप को सोचने पर मजबूर कर देंगे

हेजलवुड के पहले ओवर की तीसरी गेंद पर रोहित ने पैर को रास्ते से हटाया और गेंद को मिडविकेट के ऊपर से आसमान में पहुंचाया। चौथी गेंद पर हिटमैन क्रीज छोड़कर बाहर निकला और शॉर्ट बॉल डालकर उसे रूम के लिए क्रैंप कराने का प्रयास कर रहे हेजलवुड की गेंद को स्क्वायर लेग के ऊपर से छक्के के लिए भेज दिया। यही नहीं, अंतिम गेंद पर हेजलवुड यॉर्कर चूके और राहुल ने कलाइयों के सहारे बहुत लंबा छक्का जड़ दिया। पहले ओवर की समाप्ति के बाद भारत का स्कोर था बगैर विकेट गंवाए 20 रन। दूसरे ओवर की तीसरी गेंद पैट कमिंस ने जितनी धीमी डाली, रोहित ने स्क्वायर लेग के ऊपर से उतना ही जोरदार छक्का लगाया।

तीसरे ओवर की तीसरी गेंद एडम जंपा ने रोहित को फुलर लेंथ की डाली, हिटमैन ने आसानी से लॉन्गऑफ के ऊपर से धुआंधार छक्का उड़ा दिया। हालांकि पांचवीं गेंद पर राहुल ने स्लॉग स्वीप खेलने का प्रयास किया लेकिन धीमी गति से मात खा गए। वह 6 गेंदों पर 10 रन बनाकर पवेलियन का रास्ता नाप रहे थे और भारत को पहला झटका लग चुका था।

चौथे ओवर की दूसरी गेंद पर दर्शकों को कलाकार रोहित शर्मा दिखा। थर्ड मैन अंदर था और डेनियल शैम्स ने शॉर्ट बॉल पर रोहित को विड्थ ऑफर कर दी। बैकवर्ड प्वाइंट और शॉर्ट थर्ड मैन के बीच से खूबसूरत चौका। दर्शक लगातार पूरे दमखम से रोहित-रोहित चिल्ला रहे थे। पांचवें ओवर की पहली गेंद पर जैम्पा ने शॉर्ट बॉल डालने का प्रयास किया लेकिन कोहली ने बड़े ही शानदार तरीके से गेंद की लाइन कवर कर ली। गेंदबाज के सर के ऊपर से आकर्षक चौका।

लगातार दूसरी गेंद पर कोहली ने क्रीज के बाहर आकर बड़ा प्रहार करने का प्रयास किया। अबकी बार जैम्पा ने गेंद तेज डाल दी। विराट फ्लिक करने के लिए गेंद की पिच तक नहीं पहुंच सके और लेग स्टंप बाहर। लंबी खामोशी…! अगली ही गेंद पर सूर्य कुमार यादव ने स्वीप शॉट खेलने का प्रयास किया और एलबीडब्ल्यू आउट। स्टेडियम में घोर सन्नाटा….! दो बड़े झटके…।

छठे ओवर में एबॉट को लगातार दो चौका जड़कर रोहित ने दर्शकों की खामोशी को तोड़ा। सातवें ओवर की पांचवी गेंद कमिंस ने शॉर्ट डाली और हार्दिक ने बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में एक्स्ट्रा कवर के हाथ आसान सा कैच थमा दिया। अब थोड़ा-थोड़ा डर लग रहा था। पर तभी डीके- डीके के नारों से स्टेडियम गूंज उठा। आठवें ओवर की पहली गेंद पैड्स पर स्लोअर डिलीवरी। बैकवर्ड स्क्वायर लेग के ऊपर से स्मोकिंग हॉट सिक्स।

दूसरी गेंद डेनियल शैम्स ने शॉट रखी और डीप मिडविकेट की दिशा में पावरफुल चौका। मैच खत्म हो चुका था। भारत 6 विकेट से जीत चुका था। देर रात स्टेडियम में दिवाली मन रही थी। स्कोरबोर्ड दिखा रहा था 20 बॉल-46* रन, 230 का स्ट्राइक रेट… 4 चौके और 4 छक्के… हिटमैन द ओपनर! 2 बॉल, 10* रन, 500 का स्ट्राइक रेट। डीके…द फिनिशर।