भारतीय टीम में फिर से वापस आया यह धांसू गेंदबाज

भारतीय टीम में फिर से वापस आया यह धांसू गेंदबाज

नई दिल्ली: भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की कोविड-19 की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। ये बात मोहम्मद शमी और फैंस के लिए एक खुशी की खबर है। इस रिपोर्ट को देखते हुए मोहम्मद शमी की आगामी होने वाले T20 वर्ल्ड कप में खेलने की उम्मीद बहुत ज्यादा बढ़ गई है। हालांकि मोहम्मद शमी साउथ अफ्रीका के खिलाफ मौजूदा चल रही टी-20 सीरीज में टीम का हिस्सा नहीं है।

लेकिन हम आपको बता दें कि आईसीसी का एक खास नियम है। जो उन्हें आगामी टी-20 वर्ल्ड कप की टीम में अभी भी शामिल होने की इजाजत देता है। जिससे मोहम्मद शमी को फाइनल 15 खिलाड़ियों में जगह दी जा सकती है। क्योंकि मोहम्मद शमी T20 वर्ल्ड कप के लिए चार स्टैंडबाई खिलाड़ियों में चुने गए हैं।

आखिरकार शमी की कोविड-19 की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। जिसका खुलासा खुद मोहम्मद शमी ने सोशल मीडिया पर अपनी रिपोर्ट को पोस्ट करके किया है। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई पिछली T20 सीरीज की शुरुआत से पहले ही मोहम्मद शमी कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद उम्मीद लगाई जा रही थी कि मोहम्मद शमी कोविड-19 से जल्द ही रिकवर हो जाएंगे।

लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे शमी साउथ अफ्रीका के खिलाफ T20 सीरीज खेलेंगे। इसके बाद मंगलवार 27 सितंबर तक जब शमी की कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद बीसीसीआई ने शमी को साउथ अफ्रीका के खिलाफ होने वाली सीरीज से बाहर रखने का फैसला किया और उनकी जगह उमेश यादव को टीम में चुना गया।

ये भी पढ़ें  जून का महीना था और साल था 2016...! जगह थी भागलपुर, जब ईशान किशन....

भले ही मोहम्मद शमी अफ्रीका के खिलाफ सीरीज ना खेल पाएं लेकिन कोविड-19 से उभरना उनके लिए लिए अच्छी खबर जरूर कही जा सकती है। क्योंकि इससे उनकी टी20 वर्ल्ड कप 2022 की खेलने की उम्मीद अभी जिंदा हैं और आईसीसी का एक खास नियम उनको T20 वर्ल्ड कप में टीम में खेलने की परमिशन देता है। 16 अक्टूबर से ऑस्ट्रेलिया में T20 वर्ल्ड कप खेला जाएगा।

जिसमें आईसीसी ने 9 अक्टूबर तक किसी अन्य खिलाड़ी को चुनने के लिए टीम के दरवाजे खोल कर रखे हैं। जिससे T20 वर्ल्ड कप खेल रही 16 टीमें 9 अक्टूबर तक अपनी टीम में कोई भी खिलाड़ी का बदलाव कर सकती है। अगर इसके बाद भी किसी खिलाड़ी को टीम में चुनना है तो उसके लिए आईसीसी के डायरेक्टर से बात करनी होगी।

इसमें टीम को यह साबित करना होगा कि बदले जाने वाला खिलाड़ी चोटिल है या किसी गंभीर समस्या के चलते वह टूर्नामेंट नहीं खेल पाएगा। क्रिकेट के कई दिग्गजों का यह मानना है कि ऑस्ट्रेलिया की तेज और उछाल भरी पिचों पर मोहम्मद शमी को स्विंग और गति में कॉफी फायदा मिलने वाला है।

मोहम्मद शमी काफी समय से भारतीय टीम का हिस्सा नहीं रहे हैं और पिछले टी-20 वर्ल्ड कप में भी उनका प्रदर्शन औसत दर्जे का रहा था। लेकिन इस साल के खेले गए आईपीएल में गुजरात टाइटंस को चैंपियन बनाने में मोहम्मद शमी का अहम रोल रहा है।