बाबर आजम ने T-20 क्रिकेट में विराट से तेज 8000 रन पूरे कर

बाबर आजम ने T-20 क्रिकेट में विराट से तेज 8000 रन पूरे कर

नई दिल्ली: बाबर आजम ने T-20 क्रिकेट में विराट से तेज 8000 रन पूरे कर लिए। विराट ने ऐसा 243 पारियों में किया था जबकि बाबर ने 218 पारियों में ही यह कारनामा कर दिखाया। इंग्लैंड के खिलाफ शतक जड़कर बाबर ने यह मुकाम हासिल किया है। उसकी इस उपलब्धि के बाद विराट को ट्रोल किया जा रहा है। बाबर आजम को विराट कोहली से कहीं बेहतर बल्लेबाज कहा जा रहा है।

यह सही है कि दोनों ही खिलाड़ी अपने आप में विशेष हैं लेकिन विराट की बाबर से कोई तुलना ही नहीं है। एक छोटा सा फर्क बता कर मामला समझाता हूं। 1020 दिनों के बाद विराट पहला शतक लगाने वाले थे। आलोचक और फैंस दोनों इस लम्हे के लिए खासे बेकरार थे। इसके बावजूद किंग ने बगैर डरे छक्का मारकर वह मुकाम हासिल किया। इसकी बजाय इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे T-20 में लगभग जीते हुए मैच में भी बाबर ने हल्के हाथों से सिंगल लेकर अपना सैकड़ा पूरा किया।

पाकिस्तान क्रिकेट लीग में बाबर के विरोधी कोच आकिब जावेद ने कहा कि हम जानबूझकर बाबर को आउट नहीं करते क्योंकि वह धीमा खेलकर अपनी ही टीम को नुकसान पहुंचाता है। उसका लगातार धीमा खेलना विपक्षी टीम के लिए फायदेमंद हो जाता है। आईपीएल में कोई यह सोच भी नहीं सकता कि विराट को आउट नहीं करेंगे तो मुकाबला मुट्ठी में आ जाएगा। अगर किंग टिक गया तो निश्चित है कि एकतरफा मैच फिनिश करके आएगा।

अगर T-20 इंटरनेशनल की बात करें तो विराट ने 105 मैच खेलकर 51.22 की औसत और 138 की स्ट्राइक रेट से 3586 रन बनाया है। वहीं बाबर के बल्ले से 82 T-20 इंटरनेशनल मुकाबलों में 43 की औसत और 129 की स्ट्राइक रेट से 2895 रन आया है। औसत और स्ट्राइक रेट बताने के लिए काफी हैं कि कौन किसपर भारी है?

ये भी पढ़ें  समझाया : बांग्लादेश की आखिरी डिलीवरी को जिम्बाब्वे के खिलाफ नो-बॉल क्यों कहा गया, टी 20 विश्व कप मैच को फिर से शुरू करना

विराट जितना बड़ा खिलाड़ी है, उतना ही महान इंसान है। एशिया कप से ठीक पहले उसने बयान दिया कि फिलहाल दुनिया में बाबर नंबर वन बल्लेबाज है और मैं भी उसकी बल्लेबाजी देखना पसंद करता हूं। कोहली का यही बड़प्पन उसे किंग बनाता है। इसलिए तो जब भी वह मैदान पर आता है, दर्शकों के शोर से पूरा आसमान गूंज जाता है।

बाबर के प्रति भी किसी किस्म की नाराजगी नहीं है लेकिन उनको विराट से बड़ा खिलाड़ी बताना अपने आप में हास्यास्पद है। पूरी दुनिया में टेस्ट, टी-20 और वनडे क्रिकेट में 100 से अधिक मैच खेल कर लगभग 50 से ऊपर की औसत रखने वाला विराट इकलौता बल्लेबाज है। इसलिए करोड़ों फैंस को किंग कोहली पर नाज है।

बाबर निश्चित ही अच्छा खिलाड़ी है और पाकिस्तान में पहली बार उसके जैसा बल्लेबाज आया है। पर विराट का क्लास ही अलग है क्योंकि उसने 2008 से लेकर अबतक अपनी बल्लेबाजी से कई दिग्गज गेंदबाजों को खून के आंसू रुलाया है।