यकीन नहीं होता कि T-20 इंटरनेशनल में दुनिया की नंबर वन टीम अपने पिछले मुकाबले में क्यो असफल रही

यकीन नहीं होता कि T-20 इंटरनेशनल में दुनिया की नंबर वन टीम अपने पिछले मुकाबले में क्यो असफल रही

नई दिल्ली: यकीन नहीं होता कि T-20 इंटरनेशनल में दुनिया की नंबर वन टीम इंडिया अपने पिछले चार में से तीन मुकाबले गंवा चुकी है। एशिया कप के सुपर 4 में श्रीलंका और पाकिस्तान से मैच गंवाने के बाद अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भी हम पहला मैच हार गए। अब तक तो यही लग रहा है कि नए कप्तान और कोच यानी रोहित-राहुल की जोड़ी इंडियन क्रिकेट को ढंग से आगे नहीं ले जा पा रही है। नतीजा सामने है, टीम इंडिया मैच दर मैच गंवा रही है। आज आपको हम उदाहरण देकर बताते हैं, किन मौकों पर टीम मैनेजमेंट की भूल भारत पर भारी पड़ी।

एशिया कप के सुपर 4 में पाकिस्तान के खिलाफ 182 का टारगेट डिफेंड कर रहे भारत के लिए चौथे ओवर में रवि बिश्नोई ने गेंदबाजी की कमान संभाली। जोधपुर के इस 22 साल के खिलाड़ी ने नंबर वन पाकिस्तानी बल्लेबाज बाबर आजम को चलता कर दिया। इतना ही नहीं पावर प्ले के बाद स्लॉग ओवर्स में भी बिश्नोई ने कमाल किया। पाकिस्तानी ऑल राउंडर आसिफ अली को बगैर खाता खोले आसान सा कैच हवा में देने के लिए मजबूर कर किया। अगर अर्शदीप से वह कैच नहीं छूटा होता तो शायद रवि अपने बूते मैच का रुख पलट देता। कैच दे छूटने के बावजूद 18वें ओवर में रवि ने केवल 8 रन दिया। इस दौरान अपनी दमदार गेंदबाजी से हर हिंदुस्तानी क्रिकेट फैन का दिल जीत लिया।

पाकिस्तान के खिलाफ सुपर 4 में लाजवाब प्रदर्शन करने का तोहफा रवि को श्रीलंका के खिलाफ मुकाबले से बाहर करके दिया गया। कहा गया कि लंका के पास कई दिग्गज लेफ्ट हैंडर बल्लेबाज हैं, इसलिए अश्विन खेलेंगे। पाकिस्तान की टीम में भी फखर ज़मान, खुश्दिल शाह और मोहम्मद नवाज जैसे लेफ्टी बैट्समैन थे लेकिन वहां रवि ने जबरदस्त बॉलिंग की थी। अगर लंका के खिलाफ वह मैच खेल लेते तो शायद भारत जीत जाता। एशिया कप के फाइनल में जगह बनाता। एशिया कप में शानदार प्रदर्शन का बहुत खूबसूरत इनाम दिया गया। ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज से रवि बिश्नोई को बाहर कर दिया गया।

ये भी पढ़ें  IND vs WI: पहले वनडे के लिए मिल गया रोहित शर्मा का जोड़ीदार, IPL जैसा दिखेगा मैदान में रोमांच

जिस उमेश यादव ने भारत के लिए आखिरी टी-20 मुकाबला 2019 में खेला था, उन्हें टीम में शामिल कर लिया गया। पर जो दीपक चाहर लगातार टी-20 में दमदार प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्हें टीम में नहीं लिया गया। जो दीपक चाहर वर्ल्ड कप के रिज़र्व प्लेयर में शामिल हैं, वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंच पर बैठकर मैच देख रहे थे। जो उमेश यादव वर्ल्ड कप टीम में नहीं हैं, वह मैच खेल रहे थे। 19 नवंबर 2021 को भारत के लिए आखिरी टी-20 खेलने वाले अश्विन अचानक से टीम में चुन लिए गए हैं। पहले उन्हें एशिया कप की टीम में चुना गया और अब वर्ल्ड कप टीम में भी चुन लिया गया है।

इस साल 13 टी-20 मुकाबलों में भुवनेश्वर ने डेथ ओवर्स में गेंदबाजी की है, जिस दौरान उनकी इकोनॉमी 10.73 की रही है। एशिया कप के सुपर-4 में पाकिस्तान के खिलाफ 19वें ओवर में 19 रन, फिर श्रीलंका के खिलाफ 19वें ओवर में 14 रन और अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी-20 में 19 ओवर में 16 रन लुटाया है। रोहित-राहुल के इस पसंदीदा खिलाड़ी ने हिंदुस्तान को खूब मुकाबला हराया है। यही नहीं एशिया कप के टी-20 मैच में रहकर भी दिनेश कार्तिक को टीम से बाहर कर दिया गया। दीपक हुड्डा को प्लेइंग 11 में रखकर भी बॉलिंग नहीं दिया गया।

जबतक अपनी रणनीति नहीं बदलेंगे कोच व कप्तान
मुकाबले बिल्कुल नहीं जीत पाएगा अपना हिंदुस्तान