केजरीवाल ने बढ़ाई मोदी टेंशन, सर्वे ने उड़ाई नींद

केजरीवाल ने बढ़ाई मोदी टेंशन, सर्वे ने उड़ाई नींद

नई दिल्ली: आपको बता दें कि एक सर्वे के मुताबिक बीजेपी को टेंशन हो गई है कि 2024 में राज्यसभा के होने वाले इलेक्शन में आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल बीजेपी पर कहीं भारी न पड़ जाएं या बीजेपी की सरकार चली जाए हालांकि 2024 में होने वाले इलेक्शन के लिए प्रधानमंत्री मोदी तीसरी बार मोदी प्रधानमंत्री के लिए चुना जाना यह बात करीब-करीब तय हो चुकी है। इस बात को लेकर के कई तरह के संकेत भी आ चुके है।

अब सबसे बड़ा सवाल यह बनता है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी को कोई हरा सकता है? इस बात को लेकर के 2 नए चेहरे सामने आए। जिनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और बिहार से नीतीश कुमार है। इस बात को लेकर के एबीपी न्यूज़ चैनल का एक सर्वे सामने आया है जिसको आम आदमी पार्टी के मंत्री मनीष सिसोदिया ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट किया है और इसी को लेकर के बड़ा हंगामा शुरू हो गया है। केजरीवाल की पार्टी को चारों तरफ से घेरा जा रहा है कि कहीं 2024 में सत्ता हाथ से ना चली जाए।

आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया ने ABP न्यूज़ के सर्वे को अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है और उस पर एक नोट भी लिखा है। इस नोट में उन्होंने खुलासा किया कि ई डी की रेट तो बनती है यानी कि अब बहुत ही जल्द ईडी मेरे घर पर रेड डालेगी। यह ट्वीट उन्होंने 9 सितंबर को अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट किया था। जिसको लेकर के इतना बड़ा हंगामा हुआ।

ये भी पढ़ें  रवि शास्त्री और सुनील गावस्कर  की  कप्तान रोहित को सलाह, अगर जीतना है वर्ल्ड कप तो इन 2 खिलाड़ियों को करो शामिल 

इस सर्वे में एक बहुत अहम सवाल पूछा गया की 2024 के इलेक्शन के लिए मोदी के सामने कोई दूसरा चेहरा चुनौती देने वाला हो सकता है या नहीं? जिसमें 63% लोगों का जवाब हां मैं था कि केजरीवाल 2024 के इलेक्शन में मोदी के लिए चुनौती हैं और 37% लोगों का जवाब ना में आया कि केजरीवाल मोदी के लिए कोई चुनौती नहीं हैं। यानी कि एक तरफ है 63% लोग और उसके दूसरी तरफ हैं लगभग लगभग उसके आधे मात्र 37% लोग जिनका यह मानना है कि 2024 में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनेंगे।

अब ऐसे में ई डी की रेट तो बनती है। ई डी को आप एक तोता कहिए या फिर कुछ और लेकिन मनीष सिसोदिया ने देश में चल रही राजनीतिक गतिविधियों का पर्दाफाश करती हैं कि क्यों किसी को निशाना बनाया जाता है? अब ऐसे में यह सवाल तो बनता है कि क्या वाकई में 2024 के होने वाले इलेक्शन में अरविंद केजरीवाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टक्कर देंगे या नहीं यह एक बात अहम है।