टीम से बाहर करने के लिए अपनाई गई हर ट्रिक मेहनत से फिनिशर बना दिनेश कार्तिक

टीम से बाहर करने के लिए अपनाई गई हर ट्रिक मेहनत से फिनिशर बना दिनेश कार्तिक

नई दिल्ली: IPL 2022 में अपनी अच्छी परफॉर्मेंस के चलते दिनेश कार्तिक ने टीम इंडिया में एक बार फिर जगह बना ली है लेकिन कुछ चयनकर्ताओं का ध्यान अभी भी उनके उस टैलेंट को ठीक से नहीं देख पाया इसलिए चयनकर्ताओं के मन में अभी भी यह सवाल उठता है कि दिनेश कार्तिक को फर्नीचर का रोल दिया जाए या नहीं।

लेकिन यह बात तो साफ हो चुकी है कि दिनेश कार्तिक 2022 में T20 वर्ल्ड कप का हिस्सा है और वह प्लेइंग इलेवन में भी चुने जा सकते हैं इस बार ऑस्ट्रेलिया में T20 वर्ल्ड कप खेलने भी जरूर जाएंगे। इस वर्ल्ड कप के बाद यह उम्मीद लगाई जा रही है कि दिनेश कार्तिक क्रिकेट जगत से सन्यास भी ले सकते हैं

जिस वक्त महेंद्र सिंह धोनी का करियर शुरू हो रहा था, उसी वक्त दिनेश कार्तिक ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था। बदकिस्मती रही कि माही के बाद पंत का नंबर आ गया और डीके को चयनकर्ताओं ने भुला दिया। 2004 में इंटरनेशनल डेब्यू के बाद 18 साल के करियर में उसे विकेटकीपिंग में नंबर दो ऑप्शन बना दिया। ढलते करियर के बीच दिनेश कार्तिक ने 2019 में कमेंट्री का जिम्मा संभाल लिया।

इसके बाद जब आईपीएल में भी कोलकाता नाइट राइडर्स ने डीके का साथ छोड़ दिया तो उसने वापसी का जज्बा दिखाया। आईपीएल 2022 में बेंगलुरु की तरफ से खेलते हुए पूरे टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 183 की स्ट्राइक रेट से रन बनाया। धमाकेदार खेल के दम पर 37 साल की उम्र में टीम इंडिया में सिलेक्शन करवाया।

ये भी पढ़ें  ऑस्ट्रेलिया vs श्रीलंका, टी 20 विश्व कप 2022 लाइव : ऑस्ट्रेलिया को 120 गेंदों में 158 रन चाहिए

इतने वर्षों तक डीके को भारतीय टीम में ना लेने के लिए हजार कारण दिए गए लेकिन उसने अपने खेल के बूते बीसीसीआई और चयनकर्ताओं को मजबूर कर दिया। अपने विरोधियों का घमंड चकनाचूर कर दिया। अब कोई नहीं कह सकता कि भारत के लिए वह विकेटकीपिंग में दूसरा ऑप्शन है। हर हाल में T-20 क्रिकेट में डीके फिलहाल टीम इंडिया का विकेटकीपर नंबर वन है।

यूं ही लगातार अपने बल्ले से पूरा कहर बारपाएगा
डीके लगातार टीम इंडिया को मुकाबले जिताएगा