इधर खिलवाड़ की गर्दन दबोच रहा कप्तान, उधर पुरानी ही गलतियों से मैच गंवा रहा हिन्दुस्तान

इधर खिलवाड़ की गर्दन दबोच रहा कप्तान, उधर पुरानी ही गलतियों से मैच गंवा रहा हिन्दुस्तान

Ind vs Aus T20 series: 15 अक्टूबर से टी-20 वर्ल्ड कप शुरू होने जा रहा है। करोड़ों फैंस को इस बार ट्रॉफी की उम्मीद है। पर टीम इंडिया है कि लगातार मिल रही शर्मनाक हार से सबक सीखने को बिल्कुल तैयार नहीं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी-20 में भारत ने एशिया कप वाली भूल फिर दोहराई। नतीजा हुआ कि बोर्ड पर 208 टँगे होने के बावजूद खिलाड़ियों ने मुकाबला गंवा कर लुटिया डुबाई। मैच के दौरान कप्तान की रणनीति और उनका व्यवहार दोनों सवालों के घेरे में है।

मामला ऑस्ट्रेलियाई पारी के 12वें ओवर का है। उमेश की पहली गेंद पर स्मिथ ने छक्का और दूसरी बॉल पर चौका जड़ दिया। तीसरी गेंद पर बल्ले का महीन किनारा लगा, जिसे कन्फर्म करने के लिए कप्तान रोहित ने डीआरएस लिया। विकेटकीपर डीके को लगा कि शायद किनारा नहीं लगा। पर तीसरे अंपायर ने कंगारू बल्लेबाज को आउट करार दिया। अब कप्तान रोहित ने अपना आपा खो दिया और वह दिनेश कार्तिक की गर्दन पकड़ कर जोर-जोर से चिल्लाने लगे। अगर इसे मजाक भी कहा जाए तो यह बेहद घटिया मजाक था। जब कप्तान ऐसी हरकतें करता है तो इससे पूरी टीम का ध्यान भटकता है। फिर जीता हुआ मुकाबला भी बीच रास्ते अटकता है। एशिया कप में अर्शदीप के साथ भी रोहित ने बुरा बर्ताव किया था।

बुमराह और मोहम्मद शमी की अनुपस्थिति में एशिया कप में टीम इंडिया का क्या हाल हुआ, यह सब जानते हैं। लगा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कम से कम जसप्रीत वापस आएंगे तो डेथ ओवरों में बॉलिंग की कमान संभाल लेंगे। जीत हिंदुस्तान के नाम करेंगे। पर ऐन मौके पर पता चलता है कि इस मैच में उनको आराम दिया गया है। अब यह तो टीम मैनेजमेंट और कप्तान ही बता सकता है कि आखिर किस परिस्थिति में यह काम किया गया है? बोर्ड पर कितने भी रन लगे हों, अगर डेथ ओवरों में भुवनेश्वर पर ही भरोसा करना है तो जीतना लगभग नामुमकिन है।

ये भी पढ़ें  के एल राहुल की ये रोचक तथ्य आप को सोचने पर मजबूर कर देंगे

कुल मिलाकर हमारे 5 गेंदबाजों यानी भुनेश्वर, उमेश, चहल, हर्षल और हार्दिक की इकोनॉमी 11 से ऊपर रही। नतीजा रहा कि हमने हार सही। बॉलिंग से मन नहीं भरा तो हर्षल पटेल, अक्षर पटेल और केएल राहुल ने तीन आसान कैच भी टपका दिया। लचर गेंदबाजी और घटिया फील्डिंग का परिणाम था कि टीम इंडिया ने मैच गंवा दिया।

जब तक बॉलिंग-फील्डिंग की नीति नहीं बदलेगा कप्तान
तब तक यूं ही लगातार मुकाबले गंवाता रहेगा हिंदुस्तान