रूस और यूक्रेन के बीच शांति के लिए प्रयास जारी रखेगा तुर्की

रूस और यूक्रेन के बीच शांति के लिए प्रयास जारी रखेगा तुर्की

नई दिल्ली। तुर्की के राष्टपति रजब तैयब अर्दोग़ान कहते हैं कि युद्धरत पक्षों यूक्रेन और रूस के बीच शांति के लिए मैं अपने प्रयास जारी रखूंगा। अर्दोग़ान का कहना है कि जबतक रूस और यूक्रेन के बीच शांति स्थापित नहीं हो जाती उस समय तक तुर्की अपने प्रयासों को आगे बढ़ाता रहेगा।

उन्होंने बताया कि अनाज के निर्यात को लेकर रूस और यूक्रेन के होने वाला समझौता बहुत ही महत्वपूर्ण है। तुर्की के राष्ट्रपति के अनुसार संघर्ष के बीच इस समझौते से विश्व की मंडियों में अनाज के निर्यात का रास्ता साफ हो गया है।

रूस और तुर्की के बीच शुक्रवार को होने वाले समझौते के बारे में संयुक्त राष्ट्रसंघ का कहना है कि अब उम्मीद की जाती है कि यूक्रेन के अनाज को निर्यात करने की प्रक्रिया कुछ ही सप्ताहों में आरंभ हो जाएगी। इस समझौते पर तुर्की राजधानी में शुक्रवार को हस्ताक्षर हुए थे। संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव ने कहा कि इस काम से आशा की एक किरण जागी है। यह वह काम है जिससे पूरी दुनिया खुश है।

ज्ञात रहे कि रूस और यूक्रेन दोनो ही देश विश्व में अनाज के बड़े आपूर्ति कर्ताओं में शामिल है। दोनो पक्षों के बीच युद्ध के बाद अनाज का निर्यात बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। उल्लेखनीय है कि रूस और यूक्रेन के अधिकारियों ने शुक्रवार को तुर्की में काला सागर के रास्ते यूक्रेन से अनाज के निर्यात की अनुमति देने के एक समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं।

युद्धरत दोनों पड़ोसी देश रूस और यूक्रेन, विश्व में सबसे ज़्यादा खाद्य पदार्थ निर्यात करने वाले देश हैं, लेकिन फ़रवरी 2022 में यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद से काला सागर से निर्यात का रास्ता बंद हो गया था। अनाज के निर्यात के रुकने के कारण दुनिया भर में खाने की चीज़ों का संकट पैदा हो गया और मंहगाई बढ़ गई।

ये भी पढ़ें  10 साल में फेल हो सकता है रूस, सर्वे में हुआ खुलासा लेकिन परमाणु युद्ध पर...