भारत ने न्यूजीलैंड को तीसरे T-20 में 168 रनों से हराकर इतिहास रचा

भारत ने न्यूजीलैंड को तीसरे T-20 में 168 रनों से हराकर इतिहास रचा

Ind vs NZ T20 series: भारत ने न्यूजीलैंड को तीसरे T-20 में 168 रनों से हराकर सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली है। पिछले 4 वर्षों में भारत ने घर पर एक भी सीरीज नहीं गंवाई है। इस दौरान टीम इंडिया ने 25 बायलेटरल सीरीज खेले हैं, जिनमें 23 सीरीज में जीत मिली है और 2 सीरीज ड्रॉ रहे हैं। यह रनों के मामले में T-20 इंटरनेशनल में भारत की सबसे बड़ी जीत है।

दिलचस्प यह रहा कि इस मुकाबले में न्यूजीलैंड के सभी 10 विकेट भारतीय तेज गेंदबाजों ने हासिल किए। हार्दिक पंड्या को मैन ऑफ द सीरीज घोषित किया गया। धमाकेदार शतक के लिए शुभ्मन गिल मैन ऑफ द मैच चुने गए।

भारत के 235 के टारगेट के सामने न्यूजीलैंड की पूरी टीम 12.1 ओवरों में 66 रनों पर ऑल आउट हो गई। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में कप्तान हार्दिक पंड्या ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। माइकल ब्रेसवेल के दूसरे ओवर की दूसरी गेंद फ्लैट डिलीवरी विथ द आर्म थी।

ईशान टर्न के लिए खेले लेकिन फ्रंट फुट पर गेंद बैट से पहले पैड से टकरा गई। 7 के स्कोर पर भारत को पहला झटका लगा और ईशान केवल 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए।

यहां से शुभ्मन गिल और राहुल त्रिपाठी ने मिलकर अगले 41 गेंदों पर 81 रन जोड़ दिए। गिल लगातार आकर्षक शॉट खेल रहे थे लेकिन राहुल त्रिपाठी ने इस बीच महफिल लूट ली। 22 बॉल…44 रन… 4 चौके और 3 छक्के। नवें ओवर की पहली गेंद पर ईश सोढ़ी के खिलाफ गेंद की पिच तक जाकर राहुल त्रिपाठी ने लॉन्गऑफ के ऊपर से गगनचुंबी छक्का जड़ा।

अगली गेंद फ्लैट डिलीवरी ऑन मिडिल एंड लेग। शफल करके पुल शॉट खेलने का प्रयास लेकिन गेंद बल्ले के ऊपरी हिस्से पर लग गई। डीप बैकवर्ड स्क्वायर लेग पर लॉकी फर्ग्यूसन का कैच। भारत 87 पर 2 आउट।

टिकनर के 13वें ओवर की तीसरी गेंद पर सूर्यकुमार यादव भी आउट हो गए। दरअसल सूर्या मिड ऑन के ऊपर से शॉट खेलना चाहते थे, लेकिन हाथ में बल्ला घूमने के कारण गेंद सीधा फील्डर के पास चली गई। 13 गेंदों पर 1 चौके और 2 छक्कों की मदद से सूर्या की 24 रनों की पारी का अंत हो गया। 125 के स्कोर पर भारत ने तीसरा विकेट खो दिया। यहां से अगली 45 गेंदों पर 103 रनों की पार्टनरशिप हुई। शुभ्मन गिल के साथ कप्तान हार्दिक पंड्या बीच मैदान डट गए। डेरिल मिचेल के 20वें ओवर की पहली गेंद हार्दिक पंड्या को एंगल्ड एक्रॉस राउंड द विकेट मिली।

विड्थ जरूर ऑफर पर था लेकिन बल्ले का टो एंड लेकर गेंद सीधा लॉन्गऑफ फील्डर के हाथों में पहुंच गई। हार्दिक ने 4 चौकों और 1 छक्के की मदद से 30 रन बनाए। भारत की तरफ से शुभ्मन गिल ने सबसे ज्यादा 63 गेंदों पर 126* रनों की पारी खेली।

जवाब में न्यूजीलैंड की पूरी टीम 12.1 ओवरों में 66 रन बनाकर ऑल आउट हो गई। भारत की तरफ से कप्तान हार्दिक पंड्या ने सबसे ज्यादा 4 ओवरों में 16 रन देकर 4 विकेट चटकाए। अर्शदीप सिंह, उमरान मलिक और शिवम मावी ने भी 2-2 विकेट अपने नाम किए। उम्मीद है कि गेंदबाजी इसी तरह बड़े मुकाबलों में भी रंग लाएगी। टीम इंडिया वर्ल्ड कप के नॉकआउट मुकाबले जीत पाएगी।

ये भी पढ़ें  पिता को खोने के बाद कैसे लिखी विराट कोहली ने सफलता की कहानी।

न्यूजीलैंड की पारी शुरू हुई और शुरू होते ही खत्म हो गई। हार्दिक पांड्या के पहले ओवर की पांचवीं गेंद शॉर्ट ऑफ लेंथ स्विंगिंग आउटसाइड ऑफ। स्लैश करने के प्रयास में एज और फर्स्ट स्लिप में सूर्यकुमार यादव ने परफेक्ट जंप के साथ सर के ऊपर दोनों हाथों से गेंद को पकड़ लिया। फिन एलेन ने बनाए 4 गेंद पर 3 रन और न्यूजीलैंड को 4 के स्कोर पर पहला झटका लग गया। अर्शदीप सिंह के दूसरे ओवर की पहली गेंद फुल लेंथ आउटसाइड ऑफ थी। ड्राइविंग लेंथ पर गेंद ना होने के बावजूद बल्लेबाज डेवॉन कॉन्वे ने प्रयास किया और सीधा मिड ऑफ पर तैनात हार्दिक के हाथ में कैच दे बैठे। सॉफ्ट डिसमिसल।

स्कोर 4 पर 2 विकेट। ओवर की अंतिम गेंद अर्शदीप ने आउटसाइड ऑफ रखी। लाइन ही ऐसी थी कि बल्लेबाज चैपमैन को खेलना पड़ा। पर गेंद ने टप्पा खाने के बाद बल्ले से दूर शेप ले लिया। नतीजा बल्ले का बाहरी किनारा विकेटकीपर ईशान किशन के हाथों में चला गया। स्कोर 5 पर 3।

यहां से कीवी टीम को बड़ी पार्टनरशिप की दरकार थी, लेकिन देखते-देखते 7 के स्कोर पर ही न्यूजीलैंड को चौथा झटका लग गया। हार्दिक पंड्या के तीसरे ओवर की चौथी शॉर्ट ऑफ लेंथ गेंद पर ग्लेन फिलिप्स ने क्रॉस बैटेड शॉट खेलने का प्रयास किया। विड्थ ना होने के कारण बल्ले का किनारा स्लिप में सूर्यकुमार यादव के हाथों में चला गया।

फिलिप्स के खाते में 7 गेंदों पर 2 रन आए। पांचवें ओवर की तीसरी गेंद पर उमरान मलिक ने माइकल ब्रेसवेल का मिडिल स्टंप उखाड़ दिया। बैक ऑफ लेंथ गेंद पर ब्रेसवेल क्रॉस बैटेड शॉट खेलने के लिए गए और गति से मात खा गए। ब्रेसवेल के खाते में 8 गेंदों पर आए 8 और टीम का स्कोर हो गया 21 पर 5।

इसके बाद अगली 23 गेंदों पर 32 रनों की पार्टनरशिप हुई। लगा कि शायद न्यूजीलैंड वापसी करेगी, पर शिवम मावी के नवें ओवर की तीसरी शॉर्ट पिच बॉल पर मिचेल सैंटनर डीप मिडविकेट में सूर्यकुमार यादव के हाथों कैच थमा बैठे। ओवर की पांचवीं गेंद बैक ऑफ लेंथ आउटसाइड ऑफ। ईश सोढ़ी पंच करने के प्रयास में बैकवर्ड पॉइंट पर राहुल त्रिपाठी के हाथों लपके गए। स्कोर हो गया 53 पर 7 विकेट और अगले ही पल 54 पर 8 आउट।

हार्दिक पंड्या के 10वें ओवर की चौथी गेंद सिंपल लेंथ डिलीवरी थी। लॉकी फर्ग्यूसन बगैर खाता खोलें डाउन द ग्राउंड खेलने के चक्कर में उमरान मालिक के हाथ आसान सा कैच दे बैठे। 12वें ओवर की पांचवीं गेंद हार्दिक पंड्या ने बैक ऑफ लेंथ डाली। पुल करने का नाकाम प्रयास और काफी देर तक हवा में रहने के बाद गेंद को ईशान किशन ने पकड़ लिया। टिकनर ने बनाए 5 गेंद पर 1 रन और स्कोर हो गया 66 पर नॉट आउट।

13वें ओवर की पहली गेंद उमरान मलिक ने तेज बाउंसर डाली। डेरिल मिचेल फुल करने में चूक गए और डीप मिडविकेट में शिवम मावी के हाथ आसान सा कैच दे बैठे। इस तरह 53 गेंदें बाकी रहते न्यूजीलैंड की पूरी टीम ऑल आउट हो गई।