जेल से छूटने के बाद अब्दुल्लाह आजम का बड़ा बयान बोले मेरे वालिद की जान को खतरा।

जेल से छूटने के बाद अब्दुल्लाह आजम का बड़ा बयान बोले मेरे वालिद की जान को खतरा।

Breaking News: अब्दुल्लाह आजम का पहला बड़ा बयान बोले आज भी मेरे वालिद की जान को खतरा।

आपको बता दें कि समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता मोहम्मद आजम खान पिछले लगभग 23 महीने से सीतापुर जेल में बंद है। आजम खान के साथ-साथ उनके बेटे अब्दुल्लाह आजम और पत्नी भी जेल में बंद थी। लेकिन कुछ दिन पहले सबसे पहले पत्नी तंजीन फातिमा को जमानत पर रिहा कर दिया गया और शनिवार को बेटे अब्दुल्लाह आजम को जेल से रिहा कर दिया गया। अब्दुल्लाह आजम ने कहा हम पर जुल्म की इंतहा हो गई है और हम पिछले कई महीनों से जुल्म और ज्यादती झेल रहे हैं।

ऐसी बात नहीं है कि गरीब और मजलूम का कोई नहीं होता सब कुछ ऊपरवाला देख रहा है। शाम को जब वह अपने घर जा रहे थे तो रास्ते में कुछ पुलिसकर्मियों ने उनकी गाड़ी को रोक लिया तभी अब्दुल्लाह आजम ने पुलिस वालों से गुहार लगाई कि ऐसा अन्याय ना करो किसी को किसी के घर पर आने से ना रोको।  यह लोकतंत्र नहीं है क्या? उन्होंने पुलिस वालों से कहा कि भाई हम घर पर जाकर खाना खा ले आप कहो तो वह भी ना खाएं कह दो कमिश्नर साहब ने मना कर दिया होगा।

इतना ही नहीं उन्होंने आगे कहा देखो हमारे साथ तो जितनी ज्यादा होनी थी हो गई। हम तो भैंस चोर हैं बकरी चोर हैं और ना जाने क्या-क्या चुराया है हमने और जो ज्यादती रह गई हो वह भी कर लो। लेकिन ऊपर वाला है आज नहीं तो कल इंसाफ जरूर करेगा। आगे उन्होंने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए यह भी कहा है कि भाई मेरी मोहब्बत में कोई मुझे लेने आता है तो मैं उसे मना नहीं करूंगा। मेरे साथ ना तो कोई बड़ा काफिला था और ना ही कोई कोविड-19 प्रोटोकोल का उल्लंघन हुआ है।

हम गाड़ी में चार आदमी हैं और हमने सभी ने मास्क पहन रखा है। लेकिन हम यह भी कह रहे हैं कि जो रामपुर में अधिकारी अभी तैनात हैं उनके रहते यहां पर निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकता। इसमें चुनाव आयोग को संज्ञान लेना चाहिए। और मैं तो अपने घर जा रहा हूं अगर घर जाने से भी गाड़ी रोक दी जाएगी या सब प्रोटोकॉल और नियम विपक्ष के लिए ही हैं। यह कहां का इंसाफ है तभी एक शख्स नहीं कहां की गाड़ियों में से उतार उतार कर चेक कर रहे हैं इस पर अब्दुल्लाह आजम ने कहा कि पुलिस वाले हैं कुछ भी कर सकते हैं आप नहीं जानते कि कितने बेगुनाहों को मार दिया गया है।

ये भी पढ़ें  उर्दू भाषा को लेकर योगी सरकार का बड़ा फैसला

कितने बेगुनाहों को झूठे मुकदमों में जेल भेज दिया गया है यूपी के थानों में क्या कुछ नहीं चल रहा है किससे छुपाया जाएगा कितनी बेगुनाहों को मौत के घाट उतार दिया गोरखपुर के व्यापारी को सरेआम गोली मार दी गई लखनऊ में एक इंजीनियर को भी मार दिया गया अपनी जमानत के बाद उन्होंने कहा कि जितना जुल्म हो सकता था और जितनी तकलीफ मुझे और मेरे वालिद और मां को यानी पूरे परिवार को दी जा सकती थी वह सब दी गई।

और आज भी मेरे वालिद को वहां पर जान का खतरा है और अगर कुछ भी ऊंची नीची हुई तो इस सब की जिम्मेदारी सरकार और जेल प्रशासन की होगी। दिला आजम ने चित्रकूट की जेल का भी मामला सामने रखा और सभी जिलों में क्या हो रहा है यह सब आप जानते ही हैं। इसके बाद उन्होंने कहा कि अगर मैं गलत कह रहा हूं तो मुझे बताइए यहां तक के मैं जेल से छूटने के बाद अपने घर नहीं जा पा रहा हूं। सिर्फ रामपुर के लोगों की हड्डियां तोड़ने और उन पर भैंस बकरी चोरी का इल्जाम लगाने के लिए पुलिस है।

उन्होंने आगे यह कहां की और पुलिस इंस्पेक्टर गैंगरेप में पकड़े जा रहे हैं। उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि लोग इतना परेशान हैं उन पर इतना अन्याय हुआ है किस कदर बेरोजगारी है किस कदर महंगाई है किस कदर सभी संस्थानों की सिचुएशन खराब है। उन्होंने कहा कि आपने कहावत सुनी होगी की डूबती हुई नाव में से सभी भागते हैं वहीं काम अब बीजेपी में हो रहा है। अब्दुल्लाह आजम ने आखिर में यह भी कहा है कि जेल में मेरे वालिद की जान को खतरा है ।
यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगे तो पोस्ट को जरुर शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *